बीरबल अकबर के दरबार का सबसे बुद्धिमान व् प्रभावशाली मंत्री था | वह अपनी चतुराई और बुधिमत्ता के लिए जाना जाता था | बादशाह अकबर सदेव उसके कठिन प्रश्न रखते थे परन्तु वह शीघ्र ही उनके सटीक उतर देकर बादशाह को लाजवाब कर देता था |एक दिन बादशाह अकबर दरबार का कार्य क्र रहे थे | उन्होंने बीरबल से पूछा, बीरबल, बताओ हम भगवान का न्याय कब देख सकते है?बीरबल ने कुछ क्षण सोचता रहा | सभी दरबारी और महाराज बीरबल के उतर की प्रतीक्षा कर रहे थे | तब बीरबल बादशाह के समक्ष झुकर बोला, हम केवल तभी भगवान का न्याय देख सकते है, जब आपके दुवारा सही न्याय नहीं होगा |हर बार जब आप कोई गलत न्याय करेंगे, भगवान उसके सुधार के लिए अपना न्याय दिखाएगा |बादशाह बीरबल की बात से सहमत हो गए | इसके बाद उन्होंने कभी जल्दबाजी में कोई फेसला नहीं किया तथा सदेव इस बात का ध्यान रखते की कही अन्याय न हो जाए |